अपराधउत्तर प्रदेश

UPTET – नोएडा के इस होटल में हुई थी साजिश

लखनऊ. यूपीटीईटी पेपर लीक प्रकरण में लगातार आरोपियों को पकड़ जा रहा है. यूपीटीईटी पेपर लीक मामले में अबतक की जांच से साफ हो गया है कि एक साजिश के तहत 26 अक्टूबर को आरएसएम फिनसर्व नाम की कंपनी को पेपर प्रिंट कराने का ठेका दिया गया था, जिसके पास सुरक्षित तरीके से पेपर छापने का इंतजाम तक नहीं था. साजिश रचने वालों को ये मालूम था कि फिनसर्व के पास सुरक्षित तरीके से पेपर छापने का इंतजाम नहीं है और ये पेपर कुछ छोटी और असुरक्षित प्रेस में छपेंगे.

पेपर लीक कराने वाले सिंडिकेट से जुड़े लोग ऐसी छोटी, असुरक्षित प्रेसों पर मौजूद थे. पेपर इन प्रेसों में छपा और यहीं से पेपर बेचने वालों के हाथ लग गया. यूपी के प्रमुख गैंग्स ने हाथ मिलाया और परीक्षा से कई घंटे पहले ही ये पेपर यूपी के कई शहरों में हज़ारों लोगों के पास पहुंच गया. हालांकि सूत्र बताते हैं कि पेपर छापने का ठेका मिलने से पहले ही संजय उपाध्याय और राय अनूप प्रसाद की एक मीटिंग नोएडा के एक नामी होटल में हुई थी, बताया जा रहा है कि इस मीटिंग में ही पेपर आउट कराने की साज़िश रची गई. सूत्रों के मुताबिक इस मुलाकात का सीसीटीवी फुटेज भी जांच एजेंसियों के पास आ गया है.

फिनसर्व के डायरेक्टर राय अनूप प्रसाद और परीक्षा नियामक प्राधिकारी संजय उपाध्याय.

यूपी एसटीएफ के एडीजी अमिताभ यश भी कहते हैं कि अबतक की जांच में प्रिंटिंग प्रेस से ही पेपर लीक होने की पुष्टि हो रही है. इस पूरे मामले में पेपर छापने का टेंडर हासिल करने वाली कंपनी आरएसएम फिनसर्व के डायरेक्टर राय अनूप प्रसाद और इस परीक्षा को आयोजित कराने वाले परीक्षा नियामक प्राधिकारी संजय उपाध्याय समेत अबतक 34 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है. अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए लगातार छापेमारी भी चल रही है. गिरफ्तार आरोपियों को जल्द ही पुलिस कस्टडी रिमांड पर लेकर पूछताछ की जाएगी.

गौरतलब है कि 28 नवम्बर को दो पारियों में यूपी टीईटी परीक्षा होनी थी लेकिन पेपर लीक की खबर के बाद इस परीक्षा को रद्द कर दिया गया. परीक्षा में 21 लाख से अधिक परीक्षार्थी शामिल होने वाले थे. खबर के अनुसार टीईटी प्राथमिक स्तर की परीक्षा के लिए 13.52 लाख और टीईटी उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा के लिए 8.93 लाख परीक्षार्थियों ने रजिस्ट्रेशन करवाया था.

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close