दनकौर

राष्ट्रीय सेवा योजना के तत्वाधान में एक दिवसीय शिविर

राष्ट्रीय सेवा योजना के तत्वाधान में एक दिवसीय शिविर

बिशम्बर दयाल राममूर्ति देवी सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज ,दनकौर में आज दिनांक 7 नवंबर 2020 को राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई द्वारा “स्वदेशी जागरूकता ” का  एक दिवसीय शिविर विद्यालय परिसर में लगाया गया।
कार्यक्रम का शुभारम्भ गायत्री मंत्र के साथ, COVID19  के नियमो का पूर्ण पालन करते हुए, विद्यालय के प्रधानाचार्य श्री जयप्रकाश सिंह जी तथा कार्यक्रम अधिकारी शिवशंकर शर्मा जी के द्वारा किया गया। कार्यक्रम में छात्र-छात्राओं ने देश के प्रधानमंत्री जी द्वारा आत्मनिर्भर भारत की कल्पना को साकार करने हेतु अपने अपने विचार व्यक्त किए।
इसी कार्यक्रम में विद्यालय के आचार्य  अरविंद जी ने देश की प्रगति के लिए स्वदेशी सामान को खरीदने का आग्रह किया साथ ही  संजय जी ने एक दुकानदार का उदाहरण देते हुए, होने वाले लाभ के माध्यम से वह जितनी प्रगति करता है, उतनी ही विदेशी सामान खरीदने से उस देश को उतना ही लाभ मिलता है और उस लाभ से ही हमारे देश के खिलाफ हथियार खरीद कर आतंकवाद फैलाता है। जो हमारे देश के लिए बहुत घातक है। मुख्य वक्ता  राजकुमार  ने कहा की  उद्योग- धंधे ठप होने का कारण विदेशी सामान का बाजार में उपस्थित होना ही है । क्योंकि स्वदेशी सामान नहीं बिकने से उस पर आने वाली लागत बढ़ जाती है। जबकि विदेशी सामान की बिक्री अधिक होती है, इससे उसकी लागत कम हो जाती है। कार्यक्रम का संचालन बहन शालू तथा खुशी ने किया कार्यक्रम में विद्यालय के सभी आचार्य वी ०के० सिंह जी, ओमवीर जी, राकेश जी, ओमकार जी,धर्मवीर जी ,भास्कर जी, भूपेंद्र जी एवं आचार्या बहने अंजू जी ,रंजना जी, रूबी जी व सभी कर्मचारी उपस्थित रहे।
कार्यक्रम के अंत में कार्यक्रम के अध्यक्ष श्रीमान प्रधानाचार्य जी ने बताया कि स्वदेशी वस्तुएं ना अपनाई जाने के कारण ही देश में बेरोजगारी व आर्थिक संकट की संभावनाएं बढ़ती जा रही हैं। जो देश के लिए गंभीर समस्या बन रही है ।इस समस्या के निदान के लिए आवश्यक है कि देश में बनी वस्तुओं का प्रयोग करना चाहिए। अंत में प्रधानाचार्य जी ने सभी का आभार व्यक्त किया व स्वदेशी जागरूकता की शपथ दिलाई। विद्यालय के प्रबंधक महोदय श्रीमान राकेश कुमार गर्ग जी ने सभी छात्र -छात्राओं व विद्यालय परिवार को दीपावली की शुभकामनाएं दी। कार्यक्रम कल्याण मंत्र के साथ समाप्त हुआ।
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close