UNCATEGORIZED

वैज्ञानिक युग की देवी माँ कात्यायनी को ब्रज की गोपियों ने क्यों साधा था – जानते है सेलिब्रिटी वास्तु शास्त्री डॉ सुमित्राजी से 

दुर्गा-पूजामें प्रतिदिन का वैशिष्ट्य महत्व है और हर दिन एक देवी का है ।नवरात्रि के ९ दिनों में मां दुर्गा के ९ रूपों की पूजा होगी । १ अक्टूबर षष्ठी को कात्यायनी माता की पूजा होगी।

महर्षि कात्यायन का माता कात्यानी से क्या सम्बन्ध है

जहाँ एक तरफ पुरुष संतान की होड़ मची है वही दुसरी ओर बहुत से ऐसे दांपत्य है जो भगवन की पूजा आराधना करके पुत्री के माता पिता बनने की इक्छा रखते है। ऐसे ही कात्या गोत्र में जन्मे प्रसिद्ध महर्षि कात्यायन थे। पुत्री की प्राप्ति के लिए उन्होंने भगवती पराम्बा की उपासना , तपस्या की। उनकी तपस्या से प्रसन्ना होकर मां भगवती ने उनके घर में पुत्री के रूप में जन्म लिया । यह देवी कात्यायनी कहलाईं।

  • इनके गुण
देवी की विशिष्टता

अभी के आधुनिक दौर में जहाँ हर बात में तकनीकीकरण की बात होती है और हर देश का काफी पैसा शोध कार्य में खर्च होता है, ऐसे दौर की देवी है माँ कात्यायिनी।

सेलिब्रिटी वास्तु शास्त्री डॉ सुमित्रा अग्रवाल
ब्रज की गोप्पीयो ने युगो युगो पहले कात्यायिनी माता की आराधना क्यों की थी

भगवन कृष्णा को पति के रूप में पाने की इक्छा हर गोपी की थी। कृष्णा के सानिध्य को पाने के लिए गोपिया साधना करती थी इन्हे कात्यायिनी माता की। यह पूजा कासलंदी यमुना के तट पर की गई थी। माँ कात्यायिनी ब्रजमंडल की अधधष्ठािी देवी के रूप में प्रतिष्ठित है हैं।

माँ का स्वरुप

माँ की इस छवि की कल्पना करे, इनकी चार भुजाएं हैं।दाईं तरफ का ऊपर वाला हाथ अभयमुद्रा में है तथा नीचेवाला हाथ वर मुद्रा में।मां के बाईं तरफ के ऊपर वाले हाथ में तलवार है, नीचे वाले

हाथ में कमल का फूल है।इनका स्वरूप अत्यंत भव्य और दिव्या है।माँ स्वण के समान चमकीली हैं। इनका वाहन सिंह है।

पूजन की विशेष सामग्री

षष्ठीको पुष्प तथा पुष्पमालादि चढ़ाये। माँ को पीले फूल, कच्ची हल्दी की गांठ और शहद अर्पित करे । पीला प्रसाद चढ़ाये।

Show More

Related Articles

Close